spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
spot_img
spot_img
Sunday, September 25, 2022

PM Narendra Modi – लाल किले से संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने भ्रष्टाचारियों पर जमकर किया प्रहार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi )  ने लाल किले से संबोधन के दौरान भ्रष्टाचारियों पर भी जमकर प्रहार किया। उन्होंने बगैर किसी का नाम लिए भ्रष्टाचार के दोषियों पर सवाल उठाए। साथ ही उन्होंने इसके खिलाफ जंग में भारतवासियों का सहयोग भी मांगा है। इस दौरान उन्होंने भाई भतीजावाद के मुद्दे का भी जिक्र किया और कहा कि राजनीति के अलावा भी यह कई क्षेत्रों को प्रभावित कर रहा है।

 

सोमवार को जब पीएम मोदी लाल किले पर देश को संबोधित कर रहे थे, तो उन्होंने भ्रष्टाचार का समर्थन करने वालों पर सवाल उठाए। हालांकि, उन्होंने इस दौरान किसी का भी नाम नहीं लिया है, लेकिन उनकी बातों को बिहार के हालिया सियासी घटनाक्रम और राजधानी दिल्ली ( Delhi ) समेत कई राज्यों में हुए प्रदर्शनों से जोड़कर देखा जा रहा है।

 

पीएम ने कहा, ‘कई लोग तो इस हाल तक चले जाते हैं कि कुछ लोग जिन्हें कोर्ट ने दोषी पाया है, जेल में हैं। उनका भी महिमांडन करते हैं। जब तक भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारी के प्रति नफरत का भाव पैदा नहीं होता है, तब यह मानसिकता खत्म नहीं होगी। हमें इनके प्रति जागरूक होने की जरूरत है l

संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा, ‘किसी के पास रहने को जगह नहीं और किसी के पास चोरी का माल रखने की जगह नहीं है।’ खास बात है कि पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सरकार में मंत्री रहे पार्थ चटर्जी के खिलाफ कार्रवाई की थी। शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में जांच कर रही ईडी को चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर से करोड़ों रुपये की नकदी बरामद हुई थी।

75वीं वर्षगांठ के ऐतिहासिक मौके पर देश को दिलाए पांच प्रण
पीएम नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के ऐतिहासिक मौके पर लाल किले से देश को 5 प्रण दिलाए हैं। उन्होंने कहा कि अगले 25 सालों में जब देश अपनी आजादी के 100 साल पूरे करेगा, तब तक हमें इन संकल्पों को पूरा करना है। उन्हों कहा, ‘मुझे लगता है कि आने वाले 25 सालों के लिए हमें अपने संकल्पों को 5 आधारों पर केंद्रित करना होगा। हमें उन पंच प्रण को लेकर 2047 में जब आजादी के 100 साल होंगे तो आजादी के दीवानों के सपनों को पूरा करना होगा।’

पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा कि हमें 5 बड़े संकल्प लेकर चलना होगा। इनमें से एक संकल्प होगा, विकसित भारत।  दूसरा यह कि किसी भी कोने में गुलामी का अंश न रह जाए। अब हमें शत-प्रतिशत उन गुलामी के विचारों से पार पाना है, जिसने हमें जकड़कर रखा है। हमें गुलामी की छोटी से छोटी चीज भी नजर आती है तो हमें उससे मुक्ति पानी ही होगी। उन्होंने कहा कि कब तक दुनिया हमें सर्टिफिकेट देती रहेगी। क्या हम अपने मानक नहीं बनाएंगे। हमें किसी भी हालत में औरों के जैसा दिखने की कोशिश करने की जरूरत नहीं है। हम जैसे भी हैं, वैसे ही सामर्थ्य के साथ खड़े होंगे। यह हमारी मिजाज है।

 

उन्होंने कहा कि तीसरी प्रण शक्ति यह है कि हमें अपनी विरासत पर गर्व होना चाहिए। यही विरासत है, जिसने कभी भारत को स्वर्णिम काल दिया था। यही विरासत है, जो काल बाह्य छोड़ती रही है और नूतन को स्वीकारती रही है। पीएम मोदी ने कहा कि हमारी विरासत में ही पर्यावरण जैसी जटिल समस्या का समाधान रहा है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारी संस्कृति वह है, जो जीव में शिव देखती है और कंकर में शंकर देखती है। हमारी यह परंपरा ही बताती है कि कैसे पर्यावरण के साथ रहा जा सकता है।

 

उन्होंने कहा कि चौथा प्रण यह है कि देश में एकता रहे और एकजुटता रहे। देश के 130 करोड़ देशवासियों में एकता रहे। यह हमारा चौथा प्रण है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमें हर किसी का सम्मान करना होगा। श्रम को अच्छे नजरिए से देखना होगा और श्रमिकों का सम्मान करना होगा।

देशवासियों से की नारी का सम्मान करने की अपील 

इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने नारी का सम्मान करने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि हमारी बोलचाल में कुछ विकृति आई है। हम नारी का अपमान करते हैं। क्या हम रोजमर्रा की जिंदगी में नारी को अपमानित करने वाली हर बात से मुक्ति का संकल्प ले सकते हैं? नारी का सम्मान करना देश की प्रगति के लिए बहुत जरूरी है और हमें ऐसे शब्दों का त्याग करना चाहिए, जिससे महिलाओं का अपमान होता हो।

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

15,000FansLike
545FollowersFollow
3,000FollowersFollow
700SubscribersSubscribe
spot_img

Latest posts

error: Content is protected !!
× Live Chat
%d bloggers like this: