दिल्ली : संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की जयंती पर केन्द्रीय कार्यालयों में अवकाश रहेगा. केन्द्र सरकार ने ऐलान किया है कि बाबा साहब अंबेडकर के जन्मदिन पर 14 अप्रैल को सभी केन्द्रीय दफ्तरों में छुट्टी रहेगी.

कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय की तरफ से आधिकारिक आदेश में इस फैसले की जानकारी दी गई. इसके साथ ही, फैसले में कहा गया कि 14 अप्रैल को केन्द्रीय सरकारी दफ्तरों के साथ ही देशभर में औद्योगिक प्रतिष्ठानों को भी बंद रखा जाएगा.

1891 में भारत में एक बड़ा चमत्कार देखने को मिला जब दलित और पीड़ित जनता के हृदय सम्राट डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव में जन्म लिया… डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के पिता का नाम राम जी मालो जी सकपाल और माता का नाम भीमाबाई था आपको बता दें अपने माता-पिता की डॉक्टर भीमराव अंबेडकर चौदहवीं और अंतिम सन्तान के रूप में जन्मे थे

1956 में भारत में एक बड़ा विराट कार्य देखने को मिला था दलित और पीड़ित जनता के हृदय सम्राट डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने 14 अक्टूबर 1956 को अशोक विजयदशमी के दिन नागपुर में अपने पांच लाख साथियों के साथ बोध धर्म की दीक्षा ली।
यह दिन भारत के इतिहास में ही नहीं बल्कि पूरे बौद्ध संसार के इतिहास में भी स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हुआ था आज बाबा साहब हमारे बीच में नहीं है लेकिन उनका बताया हुआ सीधा और सच्चा मार्ग आज भी हमारे सामने है और आज भी हम उनके पद चिन्हों पर चलकर भीमराव अंबेडकर जी का नाम रोशन कर रहे हैं। बाबा साहब की अभिलाषा को पूरा करने की जिम्मेदारी हम सब की ओर पूरे भारतवर्ष की है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here