spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
spot_img
spot_img
Sunday, September 25, 2022

श्रीनगर।  गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड धारक साइकिल चालक आदिल तेली ने लेह से मनाली तक 475 किलोमीटर की दूरी 29.18 घंटे 21 सेकेंड में तय कर एक और रिकॉर्ड कायम किया है। साथ ही पुराने रिकॉर्ड 35.32 घंटे के रिकॉर्ड को भी तोड़ डाला है।

आदिल 5.41 बजे लेह से रवाना हुआ और रास्ते में पांच ऊंचे दर्रे पार कर सोमवार को सुबह 11 बजकर 59 मिनट पर मनाली पहुंचा और भारतीय सेना के भरत पन्नू के पुराने विश्व रिकार्ड को करीब 6.16 घंटे कम समय लेकर तोड़ा।
आदिल ने बताया, इस पूरे 29 घंटों के दौरान मुझे नींद नहीं आई और सडक़ अपेक्षा से अधिक दुरूह थी।
उसने कहा कि यात्रा का सबसे कठिन हिस्सा पांच उच्च ऊंचाई वाले हिमालयी दर्रों को पार करना था, जिनमें से तंगलांगला दर्रा जो समुद्र तल से 5,300 मीटर की ऊंचाई पर है, सबसे चुनौतीपूर्ण था।

सडक़ पर अन्य उच्च दर्रे नकीला पास, लाचुंग ला पास, बारालाचा ला पास समुद्र तल से 4,000 मीटर से ऊपर थे, जबकि रोहतांग ला दर्रा समुद्र तल से 3,800 मीटर ऊपर है, जो रात के समय और ठंड के बीच पार करना भी चुनौतीपूर्ण था। हिमालय की ऊंची चोटियों पर बर्फ जमा होने के कारण हवाएं चाकू की तरह चुभती हैं।
आदिल मध्य कश्मीर के बडगाम जिले के नरबल के रहने वाले हैं और पहले ही कश्मीर से कन्याकुमारी तक पैदल चलकर 2021 में केवल आठ दिनों में 3,600 किलोमीटर की दूरी तय कर चुके हैं और गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज किया है।

लेह से मनाली की यात्रा के बारे में उसने कहा,कई जगहों पर बहुत ठंड थी और कई बार मेरे हाथ और पैर जम रहे थे। लेकिन मैं घुड़सवारी करता रहा और एक ठोस मानसिकता के साथ जारी रहा कि मुझे एक नया गिनीज रिकॉर्ड बनाना है और पुराने को अच्छे अंतर से हराना है।
आदिल ने कहा,मैं अपने लक्ष्य सोमवार को सफलता और खुशी प्राप्त करने से पहले नहीं सोया।
उसने बंगलौर के अपने फिजियोथेरेपिस्ट मूर्ति से मिली मदद के बारे में भी बात की, ताकि वह अपने कारनामों को हासिल कर सकें।

आदिल ने कहा, मैं रात के दौरान खुद को फिट रखने के लिए फिजियो के तीन से चार सत्रों से गुजरता था क्योंकि ऊंची चोटियों पर बर्फ के कारण रास्ते में तापमान कम हो रहा था और ठंडी हवाएं मेरे हाथ और पैर जम रही थीं।
आदिल को इन छोटे-छोटे ब्रेक के दौरान हल्का भोजन करना पड़ता था और रास्ते में बहुत सारे तरल पदार्थ और जूस लेते हुए साइकिल पर सवार होकर अपने शरीर को हाइड्रेट रखना पड़ता था। उसने कहा,यह एक बहुत कठिन यात्रा थी, लेकिन मैंने इसे जम्मू-कश्मीर के अपने लोगों और अपने माता-पिता के आशीर्वाद से किया, जिन्होंने मुझे विश्व रिकॉर्ड को अच्छे अंतर से हराने के लिए मेरा साथ दिया।

अपना दूसरा गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के बाद, आदिल ने कहा,मेरी निकट भविष्य में और रिकॉर्ड तोडऩे की योजना है।
उसने कहा कि लेह से मनाली तक इतनी ऊंची और उबड़-खाबड़ चोटियों के बीच कम ऑक्सीजन स्तर के बीच यात्रा करके रिकॉर्ड तोडऩा आसान नहीं था। उसने कहा कि कई जगहों पर कीचड़ भरी और पत्थरों से भरी सडक़ें थीं और कुछ जगहों पर सडक़ पर पानी बह रहा था जो उनके आगे बढऩे के लिए चुनौतीपूर्ण है।
उसने कहा,मैं अल्लाह को धन्यवाद देता हूं कि मैंने इसे सफलतापूर्वक बनाया और अपने माता-पिता और मूल लोगों को गौरवान्वित किया।

आदिल के राष्ट्रीय साइकिलिंग स्पर्धाओं और दुबई ओपन चैंपियनशिप में भाग लेने की संभावना है।
उन्होंने अपने प्रायोजकों जम्मू और कश्मीर पर्यटन विभाग और सह-प्रायोजक एडिडास, संजा, सिंटेक्स सीमेंट और बहुमुखी को भी धन्यवाद दिया जिन्होंने उसे रिकॉर्ड तोडऩे में मदद की।

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

15,000FansLike
545FollowersFollow
3,000FollowersFollow
700SubscribersSubscribe
spot_img

Latest posts

error: Content is protected !!
× Live Chat
%d bloggers like this: