spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
spot_img
spot_img
Tuesday, May 17, 2022
Homeउत्तराखंडअल्मोड़ा में डीएम आवास तक पहुंची जंगल की आग, दमकल विभाग ने...

अल्मोड़ा में डीएम आवास तक पहुंची जंगल की आग, दमकल विभाग ने पाया काबू

-

अल्मोड़ा में डीएम आवास तक पहुंची जंगल की आग, दमकल विभाग ने पाया काबू

अल्मोड़ा/बागेश्वर। जंगलों में आग की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। मंगलवार को भी जिले में पांच स्थानों पर आग लगी। जंगल की आग मुख्यालय स्थित डीएम आवास तक भी पहुंची हालांकि समय रहते दमकल विभाग ने आग पर काबू पा लिया। जंगलों की आग बुझाने के लिए भी दमकल और वन कर्मी जूझते रहे।

मोबाइल छीनने का प्रयास करते हुए चोरों ने युवक से मारपीट की

मंगलवार को जौरासी के जंगलों में दो स्थानों पर करीब चार घंटे तक जंगल जलते रहे। द्वाराहाट क्षेत्र में करीब आधे घंटे तक जंगलों में आग जलती रही। डोल आश्रम के पास दोपहर में लगी आग देर शाम तक सुलगती रही जिससे काफी मात्रा में वन संपदा जल गई। जागेश्वर क्षेत्र में सोमवार से लगी आग पर अभी तक काबू नहीं पाया जा सका है। वन विभाग के फायर वॉचर और दमकल विभाग के फायर मैन आग को काबू करने का प्रयास कर रहे हैं। चितई के जंगलों में भी कुछ देर तक आग जलती रही।

जिला मुख्यालय में स्थित डीएम आवास तक भी जंगल की आग पहुंची। अग्निश्मन अधिकारी उमेश परगाई ने बताया कि डीएम आवास के पास आग लगने की सूचना मिलने पर दमकल के दो वाहनों के साथ फायर मैन की टीम को भेजा गया। करीब एक घंटे तक पानी का छिड़काव करने के बाद आग पर काबू पा लिया गया। आग से अधिक नुकसान नहीं हुआ। इसके साथ ही पेटशाल और चितई क्षेत्र में भी जंगल की आग आबादी क्षेत्र की तरफ बढ़ रही थी लेकिन समय रहते आग पर काबू पा लिया गया।

प्रदेश में गहराया बिजली संकट, आज सबसे ज्यादा कटौती, ऊर्जा के इंतजाम में जुटी सरकार
भतरौजखान में भी धधकेजंगल

भतरौजखान (अल्मोड़ा)। क्षेत्र में इन दिनों आग से जंगल धधक रहे हैं। आग से जहां बेशकीमती लकड़ी और अन्य कई औषधियां जलकर नष्ट हो गई हैं वहीं जंगली जानवर भी आबादी की तरफ रुख करने लगे हैं। आग से वातावरण भी दूषित हो रहा है। संवाद
रानीखेत और द्वाराहाट के जंगलों का भी यही हाल

रानीखेत (अल्मोड़ा)। रानीखेत में पन्याली के जंगल में मंगलवार को भी आग लग रही। चारों तरफ धुएं का गुब्बार फैला रहा। द्वाराहाट के जंगलों की हालत भी कमोबेश यही रही। पूरे दिन धूप खिली रही लेकिन हालात यह थे कि धूप नजर नहीं आई। द्वाराहाट की पहाड़ियों में लगी आग का असर साफ दिखाई दे रहा था। मंगलवार की सुबह से ही समूचे क्षेत्र का वातावरण जंगलों की आग के धुएं और धुंध में समाया रहा।
दमकल विभाग ने चलाया सफाई अभियान

अल्मोड़ा। फायर सीजन के दौरान लोगों को जागरूक करने के लिए दमकल विभाग भी जिले भर में अग्निशमन सप्ताह मना रहा है। मंगलवार को दमकल विभाग के कर्मचारियों ने अग्निश्मन अधिकारी उमेश परगाई के निर्देशन में फायर स्टेशन परिसर में बैरिक, मैस कार्यालय और एमटी की सफाई की। इसके साथ ही हिमाद्री हंस हैंडलूम, डीनापानी और अल्मोड़ा में भी लोगों को अग्नि सुरक्षा उपकरणों के संचालन की जानकारी दी गई।
धधक रहे हैं जंगल, फूल रही हैं सांसें

राज्य में कोरोना के आठ नए मामले मिले

अल्मोड़ा/बागेश्वर। जंगलों में आग की घटनाओं से जगह-जगह धुंध छा रही हैं। वनाग्नि की घटनाओं से जहां वन संपदा नष्ट हो रही है वहीं लोगों को भी आग के धुएं से परेशानी हो रही है। जिला और बेस अस्पताल में सांस और आंखों में जलन की समस्या लेकर लोग पहुंच रहे हैं।

जिला अस्पताल अल्मोड़ा में पिछले 15 दिन में सांस संबंधी परेशानी लेकर 10 और आखों में जलन की शिकायत लेकर 20 लोग पहुंचे। बेस अस्पताल में पिछले 15 दिन में श्वास लेने में परेशानी संबंधी शिकायत लेकर 12 और आंखों में जलन की शिकायत लेकर करीब 10 लोग पहुंचे।
ऐसे करें बचाव

अल्मोड़ा/बागेश्वर। जिला अस्पताल की पीएमएस डॉ. कुसमुलता ने बताया कि गर्मी के मौसम में आंखों में जलन की समस्या आदि रहती है साथ ही धुएं आदि से श्वास संबंधी रोग भी होते हैं। आंखों को जलन से बचाने के लिए नियमित तौर पर आंखों को ठंडे पानी से साफ करें। धूप में चश्मा पहनकर निकलें, धुएं आदि से आखों को बचाएं। अधिक जलन की शिकायत होने पर डॉक्टर की सलाह लें। सांस संबंधी समस्या से बचने के लिए ठंडे खाद्य पदार्थों से परहेज करें। पानी की भाप लें। बागेश्वर में जिला अस्पताल के नेत्र चिकित्सक डॉ. सत्य प्रकाश त्रिपाठी का कहना है कि आग के धुएं से आंखों की तकलीफ बढ़ सकती है। ठंडे पानी से आंखों को कई बार धोना चाहिए। आंखों के बचाव के लिए चश्मे का प्रयोग करना चाहिए।

-इन दिनों राजकीय अस्पताल में आंखों में जलन, सांस से संबंधित रोगी अधिक आ रहे हैं। चारों तरफ आग के कारण धुआं फैला हुआ है। इससे आंख में जलन और सांस लेने में दिक्कतें हो रही है। गले में खरास हो रही है। इससे बचने के लिए काला चश्मा और मास्क का उपयोग करना चाहिए।
-डॉ. केके पांडेय, अधीक्षक, राजकीय अस्पताल रानीखेत।
बिजली के लिए खतरा बनी जंगल की आग

रानीखेत। जंगलों में लगी आग के चलते चिलियानौला नगर पालिका सहित तमाम क्षेत्रों की बिजली व्यवस्था प्रभावित रही। चिलियानौला में दोपहर बाद से गुल बिजली देर शाम तक भी बहाल नहीं हो पाई थी। इस कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। इधर, यूपीसीएल के एसडीओ सौरभ जोशी ने बताया कि आग के कारण बिजली की लाइन प्रभावित हुई है। कर्मचारी फाल्ट ढूंढ रहे हैं।

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

15,000FansLike
545FollowersFollow
3,000FollowersFollow
700SubscribersSubscribe
spot_img

Latest posts

%d bloggers like this: