spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
spot_img
spot_img
Saturday, May 21, 2022
Homeउत्तराखंडउत्तराखंड भू-कानून: समिति ने जिलाधिकारियों से कहा-15 दिन में बताएं, किसको कितनी...

उत्तराखंड भू-कानून: समिति ने जिलाधिकारियों से कहा-15 दिन में बताएं, किसको कितनी भूमि दी, उसका क्या उपयोग हुआ

-

उत्तराखंड भू-कानून: समिति ने जिलाधिकारियों से कहा-15 दिन में बताएं, किसको कितनी भूमि दी, उसका क्या उपयोग हुआ

उत्तराखंड प्रदेश में भूमि कानून में संशोधन पर अब बात आगे बढ़ती दिख रही है। इस संबंध में सरकार की ओर से पुनर्विचार के लिए गठित समित की तीसरी बैठक में अध्यक्ष पूर्व मुख्य सचिव सुभाष कुमार नए तेवर में दिखे। उन्होंने गढ़वाल-कुमाऊं मंडलायुक्त के साथ पांच जिलों के जिलाधिकारियों से स्पष्ट रूप से कहा कि समिति की ओर से मांगी गई सूचनाएं 15 दिन के भीतर उपलब्ध कराएं।

नेगी दा को कल मिलेगा संगीत नाट्य अकादमी पुरस्कार, राष्ट्रपति लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी समेत 44 हस्तियों को करेंगे पुरस्कृत

वर्ष 2003-04 के बाद राज्य में भूमि के क्रय-विक्रय के बाद प्रयोजन और वर्तमान स्थिति के बारे स्पष्ट रूप से जानकारी उपलब्ध कराएं। इस संबंध में जारी किए गए प्रारूप के सभी 11 बिंदुओं पर सुस्पष्ट जानकारी दें। बताते चलें कि पिछले दिनों समिति की ओर से इस संबंध में जिलों से तमाम सूचनाएं मांगी गई थीं, जो उनकी ओर से आधी-अधूरी भेज दी गईं। इस पर समिति के अध्यक्ष ने कड़ा एतराज जताया।

इस संबंध में सचिवालय में समिति के अध्यक्ष पूर्व मुख्य सचिव सुभाष कुमार की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। बैठक में सुभाष कुमार ने कहा कि पूर्व में जिला देहरादून, हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर, नैनीताल और पौड़ी से 11 बिंदुओं पर जानकारी मांगी गई थी, लेकिन खेद का विषय है कि इतने महत्वपूर्ण मुद्दे पर भी जिलों की ओर से आधी-अधूरी जानकारी भेज दी गई।

भूमि की खरीद के बाद क्या किया, कितनों को दिया रोजगार?
उन्होंने गढ़वाल कमिश्नर रविनाथ रामन और कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत से इस संबंध में जिलों से समन्यवय बनाकर 15 दिन के भीतर रिपोर्ट समिति को भेजने को कहा है। बैठक में समिति के अन्य सदस्य सेवानिवृत आईएएस डॉ.अरुण कुमार ढौंडियाल व डीएस गर्ब्याल, अजेंद्र अजय, सुशील कुमार, देवानंद आदि उपस्थित थे।

इसके अलावा कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत व विभिन्न जनपदों के जिलाधिकारी वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से बैठक में उपस्थित हुए समिति के अध्यक्ष पूर्व मुख्य सचिव सुभाष कुमार ने बताया कि पिछले दिनों चुनाव के कारण समिति का कार्य आगे नहीं बढ़ पाया, लेकिन इससे पूर्व जिलों से भू-कानून में परिवर्तन के बाद जमीनों की खरीद-फरोख्त के संबंध में जानकारी मांगी गई थी। अधिकतर जिलों ने आधी-अधूरी जानकारी ही उपलब्ध कराई है।

अब नए सिरे से रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा गया है। इसमें यह भी पूछा गया है कि वर्ष 2003-04 के बाद राज्य में जो भूमि विभिन्न उद्यमों के एवज में क्रय की गई, उसकी वर्तमान स्थिति क्या है। जो उद्यम लगे हैं, उनमें कितने स्थानीय लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। यदि भूमि का सही उपयोग नहीं हुआ है तो जिलों की ओर से क्या कार्रवाई की गई है।

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

15,000FansLike
545FollowersFollow
3,000FollowersFollow
700SubscribersSubscribe
spot_img

Latest posts

%d bloggers like this: