spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
spot_img
spot_img
Saturday, May 21, 2022
Homeउत्तराखंड37 शहरों के अस्पतालों में खोले जा रहे आयुर्वेद सेंटर, 1 मई...

37 शहरों के अस्पतालों में खोले जा रहे आयुर्वेद सेंटर, 1 मई से मिलेगा इलाज

-

37 शहरों के अस्पतालों में खोले जा रहे आयुर्वेद सेंटर, 1 मई से मिलेगा इलाज

चिकित्‍सा की आयुर्वेद पद्धति से इलाज को लेकर न केवल भारत बल्कि विदेशों में भी लोगों की रुचि और आयुर्वेद को लेकर विश्‍वसनीयता बढ़ी है| कोरोना के बाद से आयुर्वेद के प्रति लोगों का भरोसा बढ़ा है| इतना ही नहीं बीमारी से बचाव के लिए आयुर्वेद को सबसे बेहतर पद्धति भी माना गया है| बेहद अच्‍छी खबर है कि भारत सरकार का आयुष मंत्रालय अब देश के 37 शहरों में आयुर्वेदिक केंद्र खोलने जा रहा है| ये केंद्र इन शहरों में पहले से मौजूद सैन्‍य या छावनी अस्‍पतालों में बनेंगे. इनका 1 मई 2022 से संचालन शुरू हो जाएगा और लोग आयुर्वेद पद्धति से बीमारियों का इलाज करा सकेंगे|

हरीश रावत ने वीआइपी कल्चर पर उठाए सवाल, बोले- चिकित्सकों का पेशा संवेदनशील; उनका सम्मान करें

आयुर्वेद को स्वास्थ्य संस्थानों के साथ जोड़ने के लिए, आयुष मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में इस सबंध में मिलकर फैसला लिया है| 01 मई, 2022 से देश भर के 37 छावनी अस्पतालों में आयुर्वेद केंद्र का संचालन किया जाएगा| इस संबंध में आयुष मंत्रालय इन 37 छावनी अस्पतालों को कुशल आयुष डॉक्टर और फार्मसिस्ट उपलब्ध कराएगा और रक्षा मंत्रालय 10 प्रमुख सैन्य अस्पतालों को आयुष डॉक्टर और फार्मसिस्ट प्रदान करेगा, जिनमें ये 166 एमएच, सीएच (डब्ल्यूसी), चंडीमंदिर, एमएच जयपुर, सीएच (सीसी) लखनऊ, एमएच देहरादून, एमएच जबलपुर, सीएच (एससी) पुणे, एमएच सिकंदराबाद, सीएच (ईसी), कोलकाता और 151 बीएच अस्‍पताल शामिल हैं|

शासन ने आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय में नियुक्ति को लेकर बदला फैसला

जहां तक ​​इन संस्थानों की कार्मिक आवश्यकता पूरी करने की बात है, आयुष मंत्रालय कुशल और योग्य आयुर्वेद डॉक्टरों और फार्मसिस्ट को पैनल में शामिल करेगा| इससे छावनियों के निवासी जिनमें सशस्त्र बलों के कर्मी, उनके परिवार और आम नागरिक शामिल हैं, इन अस्पतालों से आयुर्वेद स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे| रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार और आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राकेश कोटेचा के बीच हाल ही में हुई उच्च स्तरीय बैठक में हुए इस समझौते के माध्यम से, आयुष मंत्रालय और महानिदेशालय, सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवाएं (डीजीएएफएमएस) ने सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवाएं (एएफएमएस) अस्पतालों के तहत आयुर्वेद केंद्रों को संचालित करने का फैसला किया है|

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

15,000FansLike
545FollowersFollow
3,000FollowersFollow
700SubscribersSubscribe
spot_img

Latest posts

%d bloggers like this: