spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
spot_img
spot_img
Saturday, May 21, 2022
Homeउत्तराखंडतमिलनाडु के लावण्या सुसाइड मामले में एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने जताया रोष

तमिलनाडु के लावण्या सुसाइड मामले में एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने जताया रोष

-

तमिलनाडु के लावण्या सुसाइड मामले में एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने जताया रोष , आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने तमिलनाडु के तंजावुर जिले के एक मिशनरी स्कूल में पढ़ने वाली 17 वर्षीय छात्रा लावण्या के सुसाइड मामले ने राजनीतिक तूल पकड़ लिया है इस मामले में सरकार की भूमिका संदिग्ध मानते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एबीवीपी के कई कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे हैं तो वहीं उत्तराखंड में भी कार्यकर्ताओं ने इस पूरे मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विरोध जताया |

विधानसभा चुनाव निपट ते ही प्रत्याशियों के बदले तेवर

प्रेस वार्ता में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश मंत्री काजल थापा ने कहा है भारत के अंदर धर्म परिवर्तन का मामला कोई पहला मामला नहीं है हमेशा से ही देश को कमजोर करने की हरकतें देश के अंदर होती रही हैं और इसका एक जीता जागता उदाहरण तमिलनाडु में भी मिला है जहां पर एक लावण्या नाम की एक छात्रा को जबरन धर्म परिवर्तन करने के लिए लगातार प्रताड़ित किया जा रहा था |

चुनाव के दौरान सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक और भड़काऊ पोस्ट डालने वालों की खैर नहीं

जिसमें स्कूल का पूरा प्रशासन उसे धर्म परिवर्तन करने के लिए जबरन दबाव डालने का काम कर रहा था जब लावण्या ने उनके इस मामले का विरोध किया तो स्कूल प्रशासन ने लावण्या को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया और स्कूल से निकालने की धमकी और तरह-तरह के आरोप-प्रत्यारोप उस पर लगाए गए जब वह उस प्रताड़ना को सह नहीं पाई तो उसने आत्महत्या का प्रयास किया अस्पताल में भर्ती लावण्या ने पुलिस के सामने स्कूल प्रशासन द्वारा प्रताड़ना को लेकर अपना पूरा बयान रखा जिसके बाद इलाज के दौरान लावण्या की मौत हो जाती है ।

ऐसी स्थिति में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद देशभर के अंदर जहां भी छात्राओं के ऊपर उत्पीड़न जैसे मामले सामने आते वहां संगठन के कार्यकर्ता हमेशा तैयार खड़े रहते हैं तू वही जब लावण्या के समर्थन में और उस को न्याय दिलाने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता और राष्ट्रीय महामंत्री निधी त्रिपाठी ने तमिलनाडु म जाकर इस बात का विरोध प्रदर्शन किया प्रशासन ने उन पर मुकदमा दर्द कर दिया और 14 दिन की पीसीआर भी ली गई हालांकि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता शांतिपूर्ण तरीके से लावण्या को न्याय दिलाने की मांग कर रहे थे लेकिन तमिलनाडु सरकार को या आंदोलन रास नहीं आया और उन्होंने कार्यकर्ताओं पर मुकदमे दर्ज कर दिए|

उत्तराखंड की जनता इस बार भाजपा को वोट की चोट से बाहर का रास्ता दिखाएगी – राजकुमार

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

15,000FansLike
545FollowersFollow
3,000FollowersFollow
700SubscribersSubscribe
spot_img

Latest posts

%d bloggers like this: