जीएसटी इंटेलिजेंस की टीम ने कन्नौज में इत्र कारोबारी पीयूष जैन को टैक्स चोरी के आरोप में कानपुर से गिरफ्तार कर लिया है. अब तक की छापेमारी में जैन के आवास और अन्य परिसरों से 257 करोड़ रुपए की नगदी बरामद की जा चुकी है.

23 दिसंबर से शुरू हुई आयकर विभाग कार्रवाई लगातार जारी है, मिली जानकारी के अनुसार, जैन को आगे की कार्रवाई के लिए कानपुर से अहमदाबाद ले जाया जा सकता है.
25 किलो सोना और अरबों की संपत्ति के दस्तावेज
अब तक मिली जानकारी के अनुसार, 257 करोड़ की नगदी के अलावा पीयूष जैन के यहां से 25 किलो सोना और अरबों की संपत्ति के दस्तावेज मिले हैं. डीजीजीआई के छापे में अभी तक करीब 1000 करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा हो चुका है.

फिलहाल, टीम जैन के कन्नौज स्थित आवासों को लगातार खंगाल रही है. पिछले 24 घंटे से पीयूष के सात घरों की दीवारों, तहखानों, अलमारियों और लॉकरों को तोड़ा जा चुका है.
कैसे करता था टैक्स चोरी
विभागीय सूत्रों के मुताबिक, इत्र कारोबारी पीयूष कई बार कम बिक्री दिखाकर टैक्स कम भरता था. इसके अलावा फर्जी कंपनियों के बिल काटकर वह टैक्स की चोरी करता था. अब तक जैन के अलग-अलग ठिकानों से कुल 257 करोड़ रुपए बरामद की जा चुकी है.
कैसे हुआ मामले का खुलासा
दरअसल, करोड़ों की इस टैक्स चोरी का खुलासा उस वक्त हुआ जब, डीजीजीआई की टीम ने अहमदाबाद से एक ट्रक को पकड़ा था. इस ट्रक में जा रहे सामानों का बिल फर्जी कंपनियों के नाम पर बनाया गया था. इसके बाद डीजीजीआई टीम ने शिखर मसाला निर्माता के यहां छापेमारी की. यहां पर डीजीजीआई को करीब 200 फर्जी बिल मिले. यहीं से डीजीजीआई को पीयूष जैन के गोरखधंधे का पता चला, और लगातार हो रही जांच में एक के बाद एक करोड़ों की संपत्ति का खुलासा होता जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here