जोशीमठ : जहां उत्तराखंड सरकार स्वास्थ्य को लेकर तमाम तरह की योजनाएं लेकर आ रही है तो वहीं ये योजना धरातल पर बहुत कम दिखाई दे रही है अगर हम बात पहाड़ियों की करें तो दुर्गम पहाड़ियों में अभी भी मरीजों के लिए कोई भी ठोस व्यवस्था नहीं की गई है

लोगों की बढ़ती स्वास्थ्य समस्या को देखते हुए और उनकी मांगों को देखते हुए आदि गुरु शंकराचार्य श्री श्री 1008 अविमुक्तेश्वरानंद ने जोशीमठ में निशुल्क स्वास्थ्य सेवालय का शुभारंभ किया है । जिससे स्थानीय लोगों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है

बताया जा रहा है कि उत्तराखंड की तमाम दुर्गम इलाकों को चिन्हित किया जा रहा है जिसके बाद वहां पर भी निशुल्क स्वास्थ्य केंद्र खोले जाएंगे इसी दौरान श्री श्री 1008 अविमुक्तेश्वरानंद स्वामी ने बताया की स्थानीय लोगों की कई सालों से मांग थी कि यहां पर स्वास्थ्य केंद्र खोला जाए क्योंकि दुर्गम पहाड़ी होने की वजह से उत्तराखंड में स्वास्थ्य योजनाएं का लाभ बहुत कम लोगों को मिल पाता है ऐसी स्थिति को देखते हुए हमने यहां पर निशुल्क स्वास्थ्य केंद्र खोलने का निर्णय लिया है

जो आम जनता को समर्पित कर दिया गया है और यहां पर काफी सारी बीमारियों का इलाज किया जाएगा और समय रहते मरीज को उचित चिकित्सा देकर बचाया जा सकता है।

वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि निशुल्क स्वास्थ्य केंद्र खुलने से आम जनता को बहुत ज्यादा लाभ मिलेगा और उत्तराखंड के दुर्गम इलाकों में स्वास्थ्य भाई बिल्कुल भी नहीं है और यहां पर एंबुलेंस की सुविधा भी नहीं है

क्योंकि पहाड़ी एरिया में बहुत ही कम एंबुलेंस आती है जिससे मरीज को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है स्वास्थ्य केंद्र खुलने से आम जनता को बहुत ही फायदा होगा और समय से इलाज भी मिल जाएगा

बता दे उत्तराखंड में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर सुर्खियों में रहता है उत्तराखंड की दुर्गम इलाको में लोगो तक स्वास्थ्य सेवा माहि पहुंच रही है हलाकि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर बहुत ही ज्यादा गंभीर है क्योकि कोरोना ने उत्तराखंड में सभी स्वास्थ्य सिस्टम की पोल खोल दी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here