ब्रेकिंग : भारत के अंदर नशा थमने का नाम नहीं ले रहा है हर दिन भारत के अंदर लाखो रूपय का ड्रग्स छापेमारी में पकड़ा जाता है। लेकिन मुंबई में हुआ आर्यन ड्रग्स मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। आर्यन खान को ड्रग्स के मामले में क्रूज़ से पकड़ा था। लेकिन मामला अब राजनैतिक रंग ले गया है। जिसमे अधिकारी समीर वानखेड़े को अब फ़साने की कोशिश की जा रही है जिसमें उनके परिवार को भी मामले में घसीटा जा रहा है

बता दे समीर वानखेड़े पर लगे आरोपों की जांच को लेकर एनसीबी के उप महानिदेशक ज्ञानेश्वर सिंह ने बड़ी जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि पांच सदस्यीय टीम आज दिल्ली से मुंबई पहुंच गई । जिसमे टीम के पहुंचते ही जांच शुरू कर दी गई । उन्होंने कहा कि इस टीम का गठन गवाह प्रभाकर सैल के द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच के लिए किया गया । ज्ञानेश्वर ने कहा कि एनसीबी कार्यालय से एकत्र किए गए दस्तावेज और रिकॉर्ड के आधार पर गवाहों को बुलाया गया है और अब उनके बयान दर्ज किए जाएंगे। 

समीर वानखेड़े

तो वही उन्होंने आगे कहा कि इस जांच के लिए सभी भौतिक गवाहों को बुलाया जाएगा। हालांकि अभी ज्ञानेश्वर ने किसी भी गवाह का नाम लेने से इनकार कर दिया। ज्ञानेश्वर सिंह क्रूज ड्रग्स मामले में जबरन वसूली के आरोपों की विभागीय सतर्कता जांच का नेतृत्व कर रहे हैं। अभी , वानखेड़े ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए समीर वानखेड़े ने कहा कि मुझ पर लगाए गए सारे बेबुनियाद हैं। बता दें कि वानखेड़े ने आर्यन खान से जुड़े क्रूज शिप ड्रग्स पार्टी मामले की जांच का नेतृत्व किया था और बाद में उन पर जबरन वसूली के आरोप लगाए गए है। इसके बाद वे खुद जांच के दायरे में आ चुके हैं।

सभी अधिकारियों और गवाहों की भूमिका की होगी गंभीर जांच: ज्ञानेश्वर सिंह
अधिकारी ज्ञानेश्वर सिंह ने कहा कि मामले में शामिल सभी अधिकारियों और गवाहों की भूमिका की जांच की जाएगी और यह दर्ज किया जाएगा कि क्या उन्होंने इस तरह के अभियानों के दौरान नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम में उल्लिखित एनसीबी मैनुअल और प्रक्रियाओं का पालन किया था।

गवाह प्रभाकर सैल के आरोप के बाद शुरू हुई जांच
बता दे एनसीबी ने गवाह प्रभाकर सैल द्वारा किए गए दावों की जांच का आदेश दिया है। जिसमें आरोप लगाया गया है कि मुंबई के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े सहित एजेंसी के कुछ अधिकारियों द्वारा बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग की गई थी।

बताया जा रहा है की कार्यवाही से बचने के लिए समीर वानखेड़े ने कोर्ट में दिया था हलफनामा
वहीं इससे पहले समीर वानखेड़े की ओर से कोर्ट में दो हलफनामे दाखिल किए गए हैं। उन्होंने कोर्ट में कहा है कि एनसीबी की जांच को भटकाने का प्रयास हो रहा है। कई लोग गवाहों पर दबाव बना रहे हैं, जिससे गवाह मुकर गया है और जांच प्रभावित हो रही है। यहां तक कि उन्होंने यह भी कहा कि मेरे ऊपर दबाव बनाया जा रहा है और मुझे धमकी दी जा रही है। मेरी बहन, मरी हुई मां के साथ पूरे परिवार को भी टारगेट किया जा रहा है। 

वानखेड़े ने मुंबई के पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले को भी लिखा था पत्र
वानखेड़े ने रविवार को मुंबई के पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले को पत्र लिखकर सतर्कता से संबंधित एक कथित मुद्दे के संबंध में उन्हें गलत तरीके से फंसाने के लिए अज्ञात व्यक्तियों द्वारा संभावित कानूनी कार्रवाई से सुरक्षा की मांग की थी। हालांकि उन्हें राहत नहीं मिल सकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here