डीजीपी की कार्यवाही से गिरफ्तार, वीआईपी लोगो के नाम पर करता था ठगी

चाहे बड़े-बड़े लोगों के साथ फोटो खिंचा लो, लेकिन अगर अपराध किया है, तो उत्तराखण्ड पुलिस के शिकंजे से बच नहीं सकते

देहरादून : डीजीपी अशोक कुमार ने पुलिस महानिदेशक का कार्यभार ग्रहण करते ही बोला था कि नाम का दुरूपयोग करने वालों को बिल्कुल भी बक्शा नहीं जाएगा। ऋषिकेश में वीआईपी लोगों और अफसरों के साथ फोटो खिंचवाकर लोगों से ठगी करने वाले एक कथित संत को उत्तराखण्ड पुलिस ने तुरंत गिरफ्तार किया।

पीड़ित ने जैसे ही ठगी की पुलिस में शिकायत की, तो इस कथित संत ने अपना प्रभाव दिखाने के लिए तमाम फोटो वायरल कर दिए। उसे लगा कि पुलिस पीड़ित की शिकायत पर कोई एक्शन नहीं लेगी। लेकिन DGP ने इसका संज्ञान लेते हुए ऋषिकेश पुलिस को तुरंत कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया और पुलिस ने तुरंत मुकदमा पंजीकृत कर इस कथित संत को जेल भेज दिया। उसकी वीआईपी लोगों और अफसरों के साथ फोटोज काम नहीं आई।

जिला पंचायत चुनाव में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के चाणक्य बनकर उभरे मोहित बेनीवाल